Jai Shri Krishna Shayari in Hindi, Lord Krishna Quotes, श्री राधे कृष्णा प्रेम शायरी

श्री कृष्णा शायरी

कहाँ कहाँ खोजूँ मैं उसको
किसके दरवाज़े पर जाऊँ
जो मेरे चावल खा जाए
ऐसा मित्र कहाँ से लाऊँ।

राधा नाम के रस मे तन मन भीग जाता है​
सुनकर राधा नाम तो सांवरिया भी रीझ जाता है​
चाहे भक्ति का मार्ग हो या दुखो: का चक्रव्युह
राधा नाम लेने वाला​ ​हर परिस्थिति मे जीत जाता है

कान्हा इन आंखों को
जब तेरा दीदार हो जाता है
दिन कोई भी हो
मेरा तो त्यौहार हो जाता है

 

तीज गई राखी गई
गई सावन की फुहार
लल्ला तेरे स्वागत में
खड़े हैं नज़र पसार

 

आओ कन्हैया से हम दुआ मांगे
जिंदगी जीने की अदा मांगी
अपनी खातिर तो बहुत मांगा है
आओ आज सबके लिए भला मांगें

 

त्रिलोकी के नाथ हो तुम
हारे हुए मन की आस हो तुम
श्रद्धा से मिलती तेरी शरण
सच्चे भक्तों के दास हो तुम

 

Leave a Comment