बुजुर्गों पर शायरी, Respect Quotes in Hindi for Olders

Respect Quotes in Hindi for Olders

छत नहीं रहती दहलीज़ नहीं रहती दीवारों दर नहीं रहता
घर में बुजुर्ग ना हो तो घर घर नहीं रहता

बदलते दौर में ये कैसा वक्त आया है
हमीं से दूर हो रहा हमारा साया है हम आज उनकी जुबाँ पे लगा रहे बंदिश
जिन बुजुर्गों ने हमें बोलना सिखाया है

वह जो सम्मान अपने से बड़ों का आज करते हैं
सफलताओं से दुनिया में वही आगाज करते हैं
हजारों ठोकरें खानी पड़ेगी उनको ए दोस्तों
बुजुर्गों की नसीहत जो नजरअंदाज करते हैं

हम खुद को बरगद बनाकर जमाने भर को बांटते रहे
मेरे अपने ही हर दिन मुझको थोड़ा थोड़ा काटते रहे

मेरी ऊँगली पकड़ कर चलते थे
अब मुझे रास्ता दिखातें हैं
मुझे किस तरह से जीना है
मेरे बच्चे मुझे सिखाते हैं

जब से लोग बुज़ुर्गों की इज्जत कम करने लगे,
तब से लोग दामन में दुयाएं कम, दवाएं ज्यादा भरने लगे…

 

2 thoughts on “बुजुर्गों पर शायरी, Respect Quotes in Hindi for Olders”

Leave a Comment